स्वर कोकिला लता मंगेश्कर दुनिया भर में मशहूर हैं. 21 जून को वर्ल्ड म्यूजिक डे के रूप में सेलिब्रेट किया जाता हैं. ऐसे में अगर सबसे खूबसूरत आवाज़ की मल्लिका लता मंगेशकर की बात नहीं की जाए तो ये दिन अधूरा सा लगता हैं.
लता मंगेशकरआज मैंने पूरे दिन काम किया लेकिन संगीत जगत की स्वर कोकिला की बात किये बिना सब अधूरा सा लग रहा था. इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना मैं आपसे लता जी के बारे कुछ खास बात शेयर करुं. हो सकता है आप इस बात को पहले से जानते हों लेकिन अगर नहीं जानते हैं तो यकीन मानिये आप हैरान हो जाएंगे, ये जानकर कि जिनके खूबसूरत आवाज़ की दुनिया दीवानी है. वो खुद अपने गाए हुए गानों को कभी नहीं सुना करती हैं.
लता मंगेशकर

जी हाँ दोस्तों, एक इंटरव्यू के दौरान खुद हीं लता जी ने कहा था कि वो कभी भी अपने गानों को नहीं सुनतीं हैं. दरअसल लता जी कहती हैं कि, “जब भी मेरे गाने बजने शुरु होते हैं मैं वहां से चली जाती हूँ, क्योंकि मुझे मेरे गानों में हज़ारों गलतियां नज़र आती हैं.”
लता मंगेशकरजिस आवाज़ की तारीफ सारी दुनियां करती है. उस आवाज़ की मालकिन लता मंगेश्कर को अपने गानों में सिर्फ गलतियां नज़र आती हैं. भाई सफलता यु हीं किसी के कदम नहीं चूमती. लता जी जैसी महान गाइका ने हमेशा सबका सम्मान किया है और करती हैं. जितनी मनमोहक और खूबसूरत उनकी आवाज़ है. उतनी हीं सादगी और शालीनता उनके व्यक्तित्व में छलकती है. लता जी ऐसी शख्शियत हैं जिनकी जितनी तारीफ की जाए उतनी कम लगती है.